Dil Ko Chu Jane Wali Shayari

दिले बीमार सही हो, वो दवाएं देदे ,
मैं  सब पे प्यार लुटाऊँ, ये दुआएं देदे  
ए मेरे रब, मैं साँस साँस में महक जाऊं
मेरी आवाज की खुसबू को हवाएं देदे ||

dil bimaar sahi ho, wo dawayein dede ,
main  sab pe pyaar lutaoon, ye duaein dede  
aye mere rab, main saans saans mein mehak jaoon
meri aawaaj ki khusaboo ko hawaein dede ||

तू हवा है तो कर ले अपने हवाले मुझ को ,
इससे पहले की कोई और बहा ले मुझको ,
आइना बनके गुजारी है जिन्दगी मैंने ,
टूट जाऊंगा बिखरने से बचा ले मुझको ||

tuu hawa hai to kar le apne hawaale mujh ko ,
isse pahle kii koi aur baha le mujhko ,
aaina banake gujaari hai zindagii mainne ,
toot jaunga bikharane se bacha le mujhako ||

प्यास बुझ जाए तो सबनम खरीद सकता हूँ ,
जख्म मिल जाए तो मरहम खरीद सकता हूँ ,
ये मानता हूँ मैं दौलत नहीं कमा पाया ,
मगर तुम्हारा हर एक गम खरीद सकता हूँ ||

pyaas bujh jaye to sabanam kharid sakata hoon ,
zakhm mil jaye to mrham kharid sakata hoon ,
ye maanata hoon main daulat nahi kama paaya ,
magar tumhaara har ek gam kharid sakata hoon ||

तू जो ख्वाबों में भी आ जाये तो मेला कर दे ,
गम के मरुस्थल में भी बरसात का रेला कर दे ,
याद वो है ही नहीं ,आये जो तन्हाई में ,
तेरी याद आये तो मेले में अकेला कर दे ||

tu jo khwaabon mein bhi aa jaaye to mela kar de ,
gam ke merusthal mein bhi barasaat ka rela kar de ,
yaad vo hai hii nahi ,aaye jo tanhayi mein ,
teri yaad aaye to mele mein akela kar de ||

जब भी कहते हो आप हमसे की अब चलते है ,
हमारी आँखों से आंसू नहीं सम्भलते है ,
अब न कहना की संघ दिल कभी नहीं रोते ,
जितने दरिया है पहाड़ों से ही निकलते है ||

jab bhii kehate ho aap hamse ki ab chalate hai ,
hamaari aankhon se aansoo nahi sambhalate hai ,
ab na kehana ki sangh dil kabhi nahi rote ,
jitane dariya hai pahaadon se hii nikalate hai ||

सोचता था कि  तुम गिर के संभल जाओगे,
रोशनी बनके अंधेरों को निगल जाओगे,
 न तो मौसम थे न हालात न तारीख  न दिन,
किसे पता था की तुम इतना बदल जाओगे ||

sochata tha ki  tum gir ke sambhal jaoge,
roshanii banake andheron ko nigal jaoge,
 na to mausam the na haalaat na taareekh  na din,
kise pata tha ki tum itana badal jaoge ||

आप के नाम ने ही बंद हिचकियाँ कर दी,
धूप  के होंठ पे पानी की बदलियाँ धर दी ,
हर तरफ फूल हैं खुसबू है खुशनुमा मौसम ,
आपने जून के मौसम में सर्दियाँ कर दी ||

aap ke naam ne hee band hichakiyaan kar dee,
dhoop  ke honth pe paanee ki badaliyaan dhar dee ,
har taraph phool hain khusaboo hai khushanuma mausam ,
aapane joon ke mausam mein sardiyaan kar dee ||

मेरा मुक्तक मेरे लहजे में गालियाँ होगा ,
दर्द उसने मेरी तरह दबा लिया होगा ,
उसकी तलखी मैं हुआ कैसे तरन्नुम पैदा ,
उसने गुस्से में मेरा खत चबा लिया होगा ||

mera muktak mere lahaje mein gaaliyaan hoga ,
dard usane meree tarah daba liya hoga ,
usaki talakhee main hua kaise tarannum paida ,
usane gusse mein mera khat chaba liya hoga ||

जो आज कर गयी घायल वो हवा कोन  सी है ,
जो दर्दे दिल करे सही वो दवा कौन सी है ,
तुमने इस दिल को गिरफ्तार आज कर तो लिया,
अब जरा ये तो बता दो की दवा कोन सी है ||

jo aaj kar gayee ghaayal vo hava kon  see hai ,
jo darde dil kare sahee vo dava kaun see hai ,
tumane is dil ko giraphtaar aaj kar to liya,
ab jara ye to bata do ki dava kon see hai ||

जमीन जल रही है फिर भी चल रहा हूँ मैं,
खिजा का वक्त है और फूल फल रहा हूँ मैं ,
हर तरफ आंधियां हैं नफरतों की मैं फिर भी ,
दिया हूँ प्यार का हिम्मत से जल रहा हूँ मैं ||

jameen jal rahee hai phir bhi chal raha hoon main,
khija ka vakt hai aur phool phal raha hoon main ,
har taraph aandhiyaan hain napharaton ki main phir bhi ,
diya hoon pyaar ka himmat se jal raha hoon main ||

हमें कुछ पता नहीं है हम क्यों बहक रहे हैं,
रातें सुलग रही हैं दिन भी दहक रहे हैं ,
जब से है तुमको देखा हम इतना जानते है ,
तुम भी महक रहे हो हम भी महक रहे है ||

hamen kuchh pata nahin hai ham kyon bahak rahe hain,
raaten sulag rahee hain din bhi dahak rahe hain ,
jab se hai tumako dekha ham itana jaanate hai ,
tum bhi mahak rahe ho ham bhi mahak rahe hai ||

बरसात भी नहीं पर बादल गरज रहे है ,
सुलझी हुई है जुल्फे और हम उलझ रहे है ,
मदमस्त एक भंवरा क्या चाहता कली  से ,
तुम भी समझ रहे हो हम भी समझ रहे हैं ||

barasaat bhi nahin par baadal garaj rahe hai ,
sulajhee huee hai julphe aur ham ulajh rahe hai ,
madamast ek bhanvara kya chaahata kalee  se ,
tum bhi samajh rahe ho ham bhi samajh rahe hain ||

अब भी हसींन  सपने, आँखों में पल रहे हैं ,
पलकें  हैं बंद फिर भी, आंसू निकल रहे हैं ,
नींदे कहा से आंये, बिस्तर पे करवटे ही ,
वहां तुम बदल रहे हो, यंहा हम बदल रहे हैं |

  ab bhi haseenn  sapane, aankhon mein pal rahe hain ,
palaken  hain band phir bhi, aansoo nikal rahe hain ,
  neende kaha se aanye, bistar pe karavate hee ,
vahaan tum badal rahe ho, yanha ham badal rahe hain |

डाली से रूठ करके, जिस दिन कली गयी थी,
बस उस ही दिन से अपनी, किस्मत छली गयी थी ,
अंतिम मिलन समझकर, उसे देखने गया तो ,
 था प्लेटफार्म खाली, गाडी चली गयी थी ||

 daalee se rooth karake, jis din kalee gayee thee,
bas us hee din se apanee, kismat chhalee gayee thee ,
antim milan samajhakar, use dekhane gaya to ,
 tha pletaphaarm khaalee, gaadee chalee gayee thee ||

रेत पर नाम लिखने से क्या फायदा, 
एक आई लहर कुछ बचेगा नहीं ,
तुमने पत्थर सा दिल हमको कह तो दिया ,
पत्थरों पे लिखोगे मिटेगा नहीं ||

  ret par naam likhane se kya phaayada,
 ek aaee lahar kuchh bachega nahin ,
tumane patthar sa dil hamako kah to diya ,
pattharon pe likhoge mitega nahin ||

वक्त के क्रूर छल का भरोसा नहीं 
आज जी लो की कल का भरोसा नहीं 
दे रहे है वो अगले जनम  की खबर ,
जिनको अगले ही पल का भरोसा नहीं ||

vakt ke kroor chhal ka bharosa nahin 
aaj jee lo ki kal ka bharosa nahin 
de rahe hai vo agale janam  ki khabar ,
jinako agale hee pal ka bharosa nahin ||

धूर तू है मगर  मैं पास हूँ ,
दिल है तू अगर  तो दिल का मैं अहसास हूँ 
प्राथना या इबदाद या पूजा कोई 
भावना है अगत तू तो मई विस्वास हूँ ||

dhoor too hai magar  main paas hoon ,
dil hai too agar  to dil ka main ahasaas hoon 
praathana ya ibadaad ya pooja koee 
bhaavana hai agat too to maee visvaas hoon ||

इस अधूरी जवानी का क्या फायदा ,
बिन कथानक कहानी का क्या फायदा ,
जिसमे धुलकर नजर भी न पावन बने ,
आँख में ऐसे पानी का क्या फायदा ||

is adhooree javaanee ka kya phaayada ,
bin kathaanak kahaanee ka kya phaayada ,
jisame dhulakar najar bhi na paavan bane ,
aankh mein aise paanee ka kya phaayada ||

फैसला कोई भी हो दिल में उतर कर करना ,
जो तुझको दिल में रखे उसको हम सफ़र करना ,
मेरे माथे की लकीरे भी यही कहती है ऐ दोस्त ,
ये मोहब्बत है जरा सोच समझकर करना ||

phaisala koee bhi ho dil mein utar kar karana ,
jo tujhako dil mein rakhe usako ham safar karana ,
mere maathe ki lakire bhi yahee kahatee hai ai dost ,
ye mohabbat hai jara soch samajhakar karana ||

आंसू रोज कहानी लिखते 
होकर पानी पानी लिखते 
प्रेम के मारों का क्या कहना 
मीरा को दीवानी लिखते ||…………………..#

aansoo roj kahaanee likhate 
hokar paanee paanee likhate 
prem ke maaron ka kya kahana 
meera ko deevaanee likhate ||…………………..#

 वो जिस पर उसकी रहमत हो वो दौलत मांगता है क्या ,
मोहब्बत करने वाला दिल मोहब्बत मांगता है क्या ,
तुम्हारा दिल कहे जब भी उजाला बन के आ जाना ,
कभी उगता हुआ सूरज इज़ाज़त मांगता है क्या ||

 vo jis par usaki rahamat ho vo daulat maangata hai kya ,
mohabbat karane vaala dil mohabbat maangata hai kya ,
tumhaara dil kahe jab bhi ujaala ban ke aa jaana ,
kabhi ugata hua sooraj izaazat maangata hai kya ||

तमन्ना की इकाई अगर दहाई में बदल जाये ,
पहाड़े सा मेरा जीवन रुबाई में बदल जाये ,
तुम अपने अंक में लेलो तो मेरा शुन्य सा जीवन ,
सफलता की किसी स्वर्णिम इकाई में बदल जाये ||

tamanna ki ikaee agar dahaee mein badal jaaye ,
pahaade sa mera jeevan rubaee mein badal jaaye ,
tum apane ank mein lelo to mera shuny sa jeevan ,
saphalata ki kisee svarnim ikaee mein badal jaaye ||

देदे ,

मैं  सब पे प्यार लुटाऊँ, ये दुआएं देदे  
ए मेरे रब, मैं साँस साँस में महक जाऊं
मेरी आवाज की खुसबू को हवाएं देदे ||

dile beemaar sahee ho, vo davaen dede ,
main  sab pe pyaar lutaoon, ye duaen dede  
e mere rab, main saans saans mein mahak jaoon
meree aavaaj ki khusaboo ko havaen dede ||

तू हवा है तो कर ले अपने हवाले मुझ को ,
इससे पहले की कोई और बहा ले मुझको ,
आइना बनके गुजारी है जिन्दगी मैंने ,
टूट जाऊंगा बिखरने से बचा ले मुझको ||

too hava hai to kar le apane havaale mujh ko ,
isase pahale ki koee aur baha le mujhako ,
aaina banake gujaaree hai jindagee mainne ,
toot jaoonga bikharane se bacha le mujhako ||

प्यास बुझ जाए तो सबनम खरीद सकता हूँ ,
जख्म मिल जाए तो मरहम खरीद सकता हूँ ,
ये मानता हूँ मैं दौलत नहीं कमा पाया ,
मगर तुम्हारा हर एक गम खरीद सकता हूँ ||

pyaas bujh jae to sabanam khareed sakata hoon ,
jakhm mil jae to maraham khareed sakata hoon ,
ye maanata hoon main daulat nahin kama paaya ,
magar tumhaara har ek gam khareed sakata hoon ||

तू जो ख्वाबों में भी आ जाये तो मेला कर दे ,
गम के मरुस्थल में भी बरसात का रेला कर दे ,
याद वो है ही नहीं ,आये जो तन्हाई में ,
तेरी याद आये तो मेले में अकेला कर दे ||

too jo khvaabon mein bhi aa jaaye to mela kar de ,
gam ke marusthal mein bhi barasaat ka rela kar de ,
yaad vo hai hee nahin ,aaye jo tanhaee mein ,
teree yaad aaye to mele mein akela kar de ||

जब भी कहते हो आप हमसे की अब चलते है ,
हमारी आँखों से आंसू नहीं सम्भलते है ,
अब न कहना की संघ दिल कभी नहीं रोते ,
जितने दरिया है पहाड़ों से ही निकलते है ||

jab bhi kahate ho aap hamase ki ab chalate hai ,
hamaaree aankhon se aansoo nahin sambhalate hai ,
ab na kahana ki sangh dil kabhi nahin rote ,
jitane dariya hai pahaadon se hee nikalate hai ||

सोचता था कि  तुम गिर के संभल जाओगे,
रोशनी बनके अंधेरों को निगल जाओगे,
 न तो मौसम थे न हालात न तारीख  न दिन,
किसे पता था की तुम इतना बदल जाओगे ||

sochata tha ki  tum gir ke sambhal jaoge,
roshanee banake andheron ko nigal jaoge,
na to mausam the na haalaat na taareekh  na din,
kise pata tha ki tum itana badal jaoge ||

आप के नाम ने ही बंद हिचकियाँ कर दी,
धूप  के होंठ पे पानी की बदलियाँ धर दी ,
हर तरफ फूल हैं खुसबू है खुशनुमा मौसम ,
आपने जून के मौसम में सर्दियाँ कर दी ||

aap ke naam ne hee band hichakiyaan kar dee,
dhoop  ke honth pe paanee ki badaliyaan dhar dee ,
har taraph phool hain khusaboo hai khushanuma mausam ,
aapane joon ke mausam mein sardiyaan kar dee ||

मेरा मुक्तक मेरे लहजे में गालियाँ होगा ,
दर्द उसने मेरी तरह दबा लिया होगा ,
उसकी तलखी मैं हुआ कैसे तरन्नुम पैदा ,
उसने गुस्से में मेरा खत चबा लिया होगा ||

mera muktak mere lahaje mein gaaliyaan hoga ,
dard usane meree tarah daba liya hoga ,
usaki talakhee main hua kaise tarannum paida ,
usane gusse mein mera khat chaba liya hoga ||

जो आज कर गयी घायल वो हवा कोन  सी है ,
जो दर्दे दिल करे सही वो दवा कौन सी है ,
तुमने इस दिल को गिरफ्तार आज कर तो लिया,
अब जरा ये तो बता दो की दवा कोन सी है ||

jo aaj kar gayee ghaayal vo hava kon  see hai ,
jo darde dil kare sahee vo dava kaun see hai ,
tumane is dil ko giraphtaar aaj kar to liya,
ab jara ye to bata do ki dava kon see hai ||

जमीन जल रही है फिर भी चल रहा हूँ मैं,
खिजा का वक्त है और फूल फल रहा हूँ मैं ,
हर तरफ आंधियां हैं नफरतों की मैं फिर भी ,
दिया हूँ प्यार का हिम्मत से जल रहा हूँ मैं ||

jameen jal rahee hai phir bhi chal raha hoon main,
khija ka vakt hai aur phool phal raha hoon main ,
har taraph aandhiyaan hain napharaton ki main phir bhi ,
diya hoon pyaar ka himmat se jal raha hoon main ||

हमें कुछ पता नहीं है हम क्यों बहक रहे हैं,
रातें सुलग रही हैं दिन भी दहक रहे हैं ,
जब से है तुमको देखा हम इतना जानते है ,
तुम भी महक रहे हो हम भी महक रहे है ||

hamen kuchh pata nahin hai ham kyon bahak rahe hain,
raaten sulag rahee hain din bhi dahak rahe hain ,
jab se hai tumako dekha ham itana jaanate hai ,
tum bhi mahak rahe ho ham bhi mahak rahe hai ||

बरसात भी नहीं पर बादल गरज रहे है ,
सुलझी हुई है जुल्फे और हम उलझ रहे है ,
मदमस्त एक भंवरा क्या चाहता कली  से ,
तुम भी समझ रहे हो हम भी समझ रहे हैं ||

barasaat bhi nahin par baadal garaj rahe hai ,
sulajhee huee hai julphe aur ham ulajh rahe hai ,
madamast ek bhanvara kya chaahata kalee  se ,
tum bhi samajh rahe ho ham bhi samajh rahe hain ||

अब भी हसींन  सपने, आँखों में पल रहे हैं ,
पलकें  हैं बंद फिर भी, आंसू निकल रहे हैं ,
  नींदे कहा से आंये, बिस्तर पे करवटे ही ,
वहां तुम बदल रहे हो, यंहा हम बदल रहे हैं |

  ab bhi haseenn  sapane, aankhon mein pal rahe hain ,
palaken  hain band phir bhi, aansoo nikal rahe hain ,
  neende kaha se aanye, bistar pe karavate hee ,
vahaan tum badal rahe ho, yanha ham badal rahe hain |

डाली से रूठ करके, जिस दिन कली गयी थी,
बस उस ही दिन से अपनी, किस्मत छली गयी थी ,
अंतिम मिलन समझकर, उसे देखने गया तो ,
 था प्लेटफार्म खाली, गाडी चली गयी थी ||

 daalee se rooth karake, jis din kalee gayee thee,
bas us hee din se apanee, kismat chhalee gayee thee ,
antim milan samajhakar, use dekhane gaya to ,
 tha pletaphaarm khaalee, gaadee chalee gayee thee ||

रेत पर नाम लिखने से क्या फायदा, 
एक आई लहर कुछ बचेगा नहीं ,
तुमने पत्थर सा दिल हमको कह तो दिया ,
पत्थरों पे लिखोगे मिटेगा नहीं ||

  ret par naam likhane se kya phaayada, 
ek aaee lahar kuchh bachega nahin ,
tumane patthar sa dil hamako kah to diya ,
pattharon pe likhoge mitega nahin ||

वक्त के क्रूर छल का भरोसा नहीं 
आज जी लो की कल का भरोसा नहीं 
दे रहे है वो अगले जनम  की खबर ,
जिनको अगले ही पल का भरोसा नहीं ||

vakt ke kroor chhal ka bharosa nahin 
aaj jee lo ki kal ka bharosa nahin 
de rahe hai vo agale janam  ki khabar ,
jinako agale hee pal ka bharosa nahin ||

धूर तू है मगर  मैं पास हूँ ,
दिल है तू अगर  तो दिल का मैं अहसास हूँ 
प्राथना या इबदाद या पूजा कोई 
भावना है अगत तू तो मई विस्वास हूँ ||

dhoor too hai magar  main paas hoon ,
dil hai too agar  to dil ka main ahasaas hoon 
praathana ya ibadaad ya pooja koee 
bhaavana hai agat too to maee visvaas hoon ||

इस अधूरी जवानी का क्या फायदा ,
बिन कथानक कहानी का क्या फायदा ,
जिसमे धुलकर नजर भी न पावन बने ,
आँख में ऐसे पानी का क्या फायदा ||

is adhooree javaanee ka kya phaayada ,
bin kathaanak kahaanee ka kya phaayada ,
jisame dhulakar najar bhi na paavan bane ,
aankh mein aise paanee ka kya phaayada ||

फैसला कोई भी हो दिल में उतर कर करना ,
जो तुझको दिल में रखे उसको हम सफ़र करना ,
मेरे माथे की लकीरे भी यही कहती है ऐ दोस्त ,
ये मोहब्बत है जरा सोच समझकर करना ||

phaisala koee bhi ho dil mein utar kar karana ,
jo tujhako dil mein rakhe usako ham safar karana ,
mere maathe ki lakire bhi yahee kahatee hai ai dost ,
ye mohabbat hai jara soch samajhakar karana ||

आंसू रोज कहानी लिखते 
होकर पानी पानी लिखते 
प्रेम के मारों का क्या कहना 
मीरा को दीवानी लिखते ||…………………..#

aansoo roj kahaanee likhate 
hokar paanee paanee likhate 
prem ke maaron ka kya kahana 
meera ko deevaanee likhate ||…………………..#

 वो जिस पर उसकी रहमत हो वो दौलत मांगता है क्या ,
मोहब्बत करने वाला दिल मोहब्बत मांगता है क्या ,
तुम्हारा दिल कहे जब भी उजाला बन के आ जाना ,
कभी उगता हुआ सूरज इजाज़त मांगता है क्या ||

 wo jis par uski rehmat ho vo daulat maangata hai kya ,
mohabbat krne waala dil mohabbat maangata hai kya ,
tumhaara dil kahe jab bhi ujaala ban k aa jaana ,
kabhi ugata hua sooraj izaazat maangata hai kya ||

तमन्ना की इकाई अगर दहाई में बदल जाये ,
पहाड़े सा मेरा जीवन रुबाई में बदल जाये ,
तुम अपने अंक में लेलो तो मेरा शुन्य सा जीवन ,
सफलता की किसी स्वर्णिम इकाई में बदल जाये ||

tamanna ki ikai agar dahai mein badal jaaye ,
pahaade sa mera jeewan rubai mein badal jaaye ,
tum apane ank mein lelo to mera shunye sa jeewan ,
safalata ki kisi svarnim ikai mein badal jaaye ||

Leave a Comment